encounter between ulfa terrorists and army in tinsukia assam jawans died: ख़बरें: आज तक

असम के तिनसुकिया जिले के पेंगरी इलाके में शनिवार को सेना और उल्फा के संदिग्ध आतंकियों के बीच मुठभेड़ चल रही है. मुठभेड़ में सेना के तीन जवान शहीद हो गए, जबकि 4 जवान घायल हैं. उन्हें अस्पताल भेजा गया है.

आतंकियों ने सेना की गाड़ी में किया ब्लास्ट

बताया जा रहा है कि तिनसुकिया के डिगबोई इलाके में अभी सेना और उल्फा आतंकियों के बीच मुठभेड़ चल रही है. उल्फा आतंकियों ने सेना की गाड़ी में आईईडी से ब्लास्ट किया. असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने हमले की निंदा की है. उन्होंने गृह मंत्री राजनाथ सिंह के स्थिति के बारे में जानकारी दी.

गृह मंत्री ने जताया दुख

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि असम हमले पर गृह मंत्रालय अपनी नजर बनाए हुए हैं. राजनाथ सिंह ने शहीदों के लिए शोक जाहिर किया और घायल जवानों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है.

आर्मी चीफ ने रक्षा मंत्री को किया फोन

डीजीपी मुकेश सहाय के मुताबिक, अभी तक किसी आतंकी के मारे जाने की पुष्टि नहीं हुई है. फिलहाल मुठभेड़ जारी है. आर्मी चीफ दलबीर सिंह ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को हमले और मुठभेड़ के बारे में जानकारी दी है.

असम में हो रहे उपचुनाव

गौरतलब है कि असम में लखीमपुर लोकसभा क्षेत्र और बैठालांसो विधानसभा क्षेत्र में हो रहे उपचुनाव में आठ उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला होगा. दोनों सीटों पर 8,21, 199 महिलाओं सहित 16,91,313 वोटर हैं. पहले लखीमपुर का प्रतिनिधित्व असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल करते थे. वह माजूली से मई में विधायक बने.

क्या है उल्फा?

बता दें, उल्फा या युनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम में सक्रिय एक प्रमुख आतंकवादी और उग्रवादी संगठन हैं. सशस्त्र संघर्ष के द्वारा असम को एक स्वतंत्र राज्य बनाना इसका लक्ष्य है. भारत सरकार ने इसे 1990 में प्रतिबंधित कर दिया और इसे एक ‘आतंकवादी संगठन’ के रूप में रखा है.


Source link

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*