नई दिल्ली के पब्लिक टॉइलेट्स में लगेंगे लाल, हरे और पीले रंग के तीन बटन

The red, green and yellow three buttons will be in New Delhi's public toilets

नई दिल्ली के पब्लिक टॉइलेट्स में लगेंगे लाल, हरे और पीले रंग के तीन बटन

नई दिल्ली। लाल, हरे और पीले रंगों से ट्रैफिक कंट्रोल होता है। एनडीएमसी ने इन रंगों का इस्तेमाल एक नई पहल के रूप में किया है। काउंसिल ने नई दिल्ली के पब्लिक टॉइलेट्स में एक ऐसा बोर्ड लगाया है, जिसमें लाल, हरा और पीले रंग के तीन बटन लगे हैं। साथ ही इस बोर्ड पर लिखा है, ‘Is This Toilet Clean?’ जबाव देने के लिए बोर्ड पर लगे इन तीन बटनों में से एक दबाना होगा।
बटन दबते ही आपका सुझाव एनडीएमसी के पालिका भवन स्थित मुख्यालय तक पहुंच जाता है। गौर करने वाली बात यह है कि अगर कोई लाल बटन दबाता है तो मुख्यालय में बकायदा सायरन बजता है। इसे बकायदा एनडीएमसी ऑनलाइन रिकॉर्ड भी कर रही है। सूत्रों की मानें तो नई दिल्ली एरिया में तकरीबन 150 पब्लिक टॉइलटों में ऐसे बोर्ड लगाए गए हैं। इसके लिए एनडीएमसी ने एक प्राइवेट कंपनी के साथ करार भी किया है। इसी कंपनी पर बोर्ड की देखरेख की जिम्मेदारी है।

एनडीएमसी के एक सीनियर ऑफिसर ने बताया, ‘स्वच्छ भारत अभियान के तहत काउंसिल ने पब्लिक टॉइलट में यह बोर्ड लगाया है। पब्लिक टॉयलेट्स के मामले में हम पूरे देश में अग्रणी रहेंगे। पहले स्मार्ट टॉइलेट्स और अब ये बोर्ड लगाने के बाद हमारे प्रयासों को काफी प्रोत्साहन मिल रहा है। दूसरी बात यह है कि पब्लिक टॉइलट्स में बटन लगाने से लोगों के सुझाव भी सीधे तौर पर काउंसिल तक पहुंचेंगे।’
ऐसे दबाना होगा बटन
एनडीएमसी के मुताबिक जो लोग पब्लिक टॉइलट्स यूज करने के लिए जाएंगे, उन्हें बोर्ड पर लगे इन तीनों में से कोई एक बटन दबाना होगा। जिस बटन को भी आप दबाएंगे, उसमें से लाइट जलेगी और आपके सुझाव को काउंसिल हेड क्वॉर्टर तक पहुंचा दिया जाएगा। जब तक लाइट नहीं जलेगी तब तक आपका सुझाव दर्ज नहीं हो पाएगा। बोर्ड पर हरा बटन स्वच्छ, पीला बटन ओके और लाल बटन अस्वच्छ विकल्प के लिए रखा गया है।
दिक्कतें भी हैं
जिन बोर्ड्स को पब्लिक टॉइलट्स में लगाया गया है, उनमें कुछ के बटन खराब हो चुके हैं। किसी का लाल बटन नहीं दब रहा तो किसी का पीला। लोगों ने इस बारे में एनडीएमसी के मोबाइल ऐप 311 पर भी शिकायत दर्ज कराई है।
-एजेंसी

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*